राज्य की परिवहन व्यवस्था

Last Updated on May 13, 2021 by eGKhindi

  • मध्य प्रदेश में यात्री और माल दोनों परिवहन मुख्य सड़क साधन सड़क परिवहन है।
  • मध्य प्रदेश में पक्की सड़कों की लम्बाई कच्ची की तुलना में अधिक है।
  • राज्य में सड़क घनत्व 19 किलोमीटर है। राष्ट्रीय घनत्व 83 किलोमीटर है।
  • राज्य की जी. डी. पी. में सड़क परिवहन क्षेत्र की भागीदारी वर्ष 2011 – 12 में 3.16% रही वंही रेलवे की 1.09% रही।
  • मध्य प्रदेश सर्वाधिक सड़क लंबाई ग्रामीण मार्ग के रूप में हैं।
  • सड़कों की दृष्टि से मध्य प्रदेश का देश में 15 वां स्थान है।
  • मध्य प्रदेश में राज्य परिवहन की स्थापना 1962 में की गयी थी। जिसे बंद कर दया गया है। और अब निजी बस प्रबंधकों द्वारा अनुबंध के आधार पर सेवाएं प्रदान की जा रही हैं।
  • राज्य में कुल 20 राष्ट्रीय राजमार्ग गुजरते हैं।
  • श्योपुर में सडकों का घनत्व मांत्र 10.75 किलोमीटर है।
  • मध्य प्रदेश सड़क परिवहन निगम की स्थापना वर्ष 1962 में की गयी थी।
मध्य प्रदेश से गुजरने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग और उनकी लम्बाई 
1 NH – 3 आगरा – मुम्बई वाया इंदौर 717 किलोमीटर
2. NH – 7 वाराणसी – जबलपुर – नागपुर – कन्याकुमारी 511 किलोमीटर
3 NH – 12 जयपुर- जबलपुर- वाया – कोटा – राजगढ़ – भोपाल 481 किलोमीटर
4. NH – 12 A जबलपुर – सिमगा 191 किलोमीटर
5. NH – 25 लखनऊ – कानपुर- झाँसी – शिवपुरी 80 किलोमीटर
6. NH – 26 झाँसी – लखनादौन – वाया सागर 273 किलोमीटर
7. NH – 27 इलाहाबाद – मंझगवाँ 52 किलोमीटर
8. NH – 59 अहमदाबाद – झाबुआ – धार – घाटा – विलौद – इंदौर 171 किलोमीटर
9. NH – 59 A इंदौर – बैतूल 277 किलोमीटर
10. NH – 69 अब्दुलगंज – होशंगाबाद – बैतूल – मुल्ताई – नागपुर 256.4 किलोमीटर
11. NH – 75 ग्वालियर – झाँसी – खजुराहो – छतरपुर – पन्ना = सतना – रीवा – रांची 307 किलोमीटर
12. NH – 75 A रीवा – रेणुकोट – डाल्टनगंज – रांची 195 किलोमीटर
13. NH – 76 पिंडवाड़ा – उदयपुर – शिवपुरी – चितौड़गढ़ – कोटा – झाँसी – इलाहाबाद 43 किलोमीटर
14. NH – 78 कटनी – शहडोल – अंबिकापुर – जशपुर – गूमला 245 किलोमीटर
15. NH – 86 कानपुर – छतरपुर – सागर – भोपाल 187 किलोमीटर
16. NH – 86 A भोपाल – विदिशा – सागर 186 किलोमीटर
17. NH – 92 भौगावं – ग्वालियर 108 किलोमीटर
18. 12A – X जबलपुर – झाँसी तक 337 किलोमीटर
19. 26A – X सागर – बीना 75 किलोमीटर

कुल सड़क लम्बाई : 106497 किलोमीटर।

राष्ट्रीय राजमार्ग की लम्बाई: 4709 किलोमीटर।

राजकीय या प्रांतीय मार्ग: 10501 किलोमीटर।

जिला मार्ग: 19574 किलोमीटर।

ग्रामीण मार्ग: 23639 किलोमीटर।

प्रधानमंत्री सड़क योजनान्तर्गत: 50770 किलोमीटर।

सर्वाधिक घनत्व: सतना।

मध्य प्रदेश में रेल परिवहन

  • यहाँ देश के रेलमार्गों की कुल लम्बाई का लगभग 10 प्रतिशत भाग आता है।
  • मध्य प्रदेश में रेल परिवहन की शुरुआत: मध्य प्रदेश में सर्वप्रथम 1865 से 1878 के दौरान रेल मार्ग का निर्माण हुआ जो बम्बई – दिल्ली रेल मार्ग को पूरा करने हेतु निर्मित किया गया था।
  • रेलवे जोन: मध्य प्रदेश में एक मात्र रेलवे जोन जबलपुर में है, जो 1998 में स्थापित हुआ। यह पश्चिम मध्य रेलवे के अंतर्गत है।
  • प्रदेश में रेल सेवा आयोग का मुख्यालय भोपाल में है।  राज्य में भोपाल, रतलाम और उज्जैन क्षेत्रीय रेलवे मुख्यालय हैं।
  • मध्य प्रदेश में रेल मार्गों की लम्बाई 6100 किलोमीटर है, जो देश की रेल लम्बाई का लगभग 10 प्रतिशत है। यहाँ तीन रेल मार्गों पश्चिमी रेलवे, मध्य रेलवे, दक्षिण – पूर्वी रेलवे की शाखा व् उपशाखाएँ हैं।
  • राज्य में ब्राड गेज, नेरो गेज और मीटर गेज तीनो तरह की रेलवे है।
  • मध्य प्रदेश में रेलवे की सेवाएं हैं – मध्य रेलवे, पश्चिमी रेलवे और दक्षिण – पूर्व रेलवे।
  • प्रसिद्ध key लाइनें पांच जोन में आती हैं।
  • प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जोन पश्चिम – मध्य रेलवे है। इसका मुख्यालय जबलपुर में है।

मध्य प्रदेश में वायु सेवा

  • मध्य प्रदेश के पांच नगरों में इंडियन एयर लाइन्स एवं वायुदूत की नियमित सेवाओं से जुड़े हवाई अड्डे हैं।
  • वर्तमान में सिर्फ खजुराहो और भोपाल से अंतर्राष्ट्रीय उड़ाने है। 13 अप्रैल 2012 को इंदौर अंतर्राष्ट्रीय हवाई (रानी अहिल्या बाई हवाई अड्डा) का उद्घाटन।
  • राज्य में 24 हवाई पट्टियां हैं, लेकिन प्रमुख हवाई अड्डों की संख्यां 11 है।
  • राज्य के 5 नगरों से ही नियमित वायुसेवा उड़ाने हैं।
  • राज्य में वायुसेवाएं इंडियन एयर लाइन्स, वायुदूत और सहारा एयरवेज दे रही है।
  • भोपाल एवं इंदौर राज्य के दो अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे हैं।
  • कान्हा, राज्य का एकमात्र उद्यान हैं, जहाँ हवाई पट्टी है।

 

One thought to “राज्य की परिवहन व्यवस्था”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *