Indian History GK in Hindi – भारतीय इतिहास सामान्य ज्ञान

भारतीय इतिहास से सम्बंधित सामान्य ज्ञान हिंदी 2020

भारतीय इतिहास से सम्बंधित सामान्य ज्ञान यहाँ पर दिया हुआ है. इन्हे पढ़कर आप आने वाले exam के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हैं.

वैदिक सभ्यता एवं संस्कृति

प्रमुख तथ्य:

  • सिंधु सभ्यता अथवा हड़प्पा सभ्यता के पतन के पश्चात सैंधव प्रदेश में आर्य की वैदिक सभ्यता का विकास हुआ।
  • वैदिक सभ्यता के निर्माता आर्य थे।
  • वैदिक सभ्यता वेद से सम्बंधित थे।
  •  ऋग्वेद का रचना काल 1500 ई. पू. से 1000 ई. पू. तक रहा है।
  • उत्तर वैदिककाल का रचनाकाल 1000 ई. पू. से 500 ई. पू. तक रहा है।
  • आर्यों द्वारा वेदों को अर्पोरुषेय कहा गया है.
  • ऋग्वेद के कुल सूक्तों की संख्या 1028 है।
  • ऋग्वेद के समस्त सूक्त 10 मंडलों में विभक्त हैं।
  • वेदों में ऋग्वेद के पश्चात यजुर्वेद का स्थान है।
  • यजुर्वेद की दो शाखाएं है – शुक्ल यजुर्वेद एवं कृष्ण यजुर्वेद।
  • शुक्ल यजुर्वेद को वाजनसेयी संहिता भी कहते हैं।
  • यजुर्वेद में 40 अध्याय हैं. प्रत्येक का सम्बन्ध किसी न किसी याज्ञिक अनुष्ठान से है।
  • सामवेद की तीन शाखाएं थी – कौथुम, राणानिया एवं जैमिनीय।
  • सामवेद में 1810 मन्त्र हैं, इसे ऋषि गाते थे.
  • सामवेद का प्रमुख देवता सविता या सूर्य है, किन्तु इंद्र एवं सोम देवता का भी इसमें पर्याप्त वर्णन है।
  • चारों वेद के एक एक उपवेद भी हैं।
  • आयुर्वेद के प्रमुख रचनाकार हैं – धन्वंतरि, अश्वनी कुमार, बाणभट्ट, सुश्रुत, माधव, एवं लोलिम्बराज।
  • ऋग्वेद में पार्थिव देवता वर्ग में अग्नि देवता का महत्वपूर्ण स्थान है।
  • अनेक कटुम्बों के समूह को ग्राम कहा जाता है।
  • ग्राम के न्यायाधीश को ग्राम्यवादीन कहा जाता था।
  • ऋग्वैदिककाल में बाल विवाह की प्रथा प्रचलित नहीं थी।
  • भारतीय समाज में वर्ण शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम ऋग्वेद में मिलता है।
  • आर्यों का प्रिय पशु घोड़ा है।
  • आर्यों द्वारा धातु लोहा की खोज की गयी जिसे श्याम अयस कहा जाता था।
  • आर्यों का मुख्य पेय पदार्थ सोमरस था।
  • आर्यों का मुख्य व्यवसाय पशुपालन एवं कृषि था।
  • नदियों में सरस्वती सर्वाधिक महत्वपूर्ण तथा पवित्र मानी जाती है।
  • “सत्यमेव जयते” मण्डकोपनिषद से लिया गया।
  •  विश्व का सबसे बड़ा महाकाव्य महाभारत है। महाभारत का पुराना नाम जयसंहिता है।

कुछ महत्वपूर्ण भारतीय और विश्व इतिहास सामान्य ज्ञान

  1. आर्य शब्द का अर्थ क्या होता है?

    आर्य शब्द मूलतः संस्कृत भाषा का है जो अरि शब्द से बना है, जिसका अर्थ विदेशी या अजनबी या उत्तम या श्रेष्ठ होता है।

  2. बाल गंगाधार तिलक ने आर्यों का आदि देश किसे बताया है?

    उतरी ध्रुव को 

  3. वेद का क्या अभिप्राय होता है?

    जानना अर्थात ज्ञान प्राप्त करना

  4. आर्यों का सर्वाधिक पवित्र एवं प्राचीन ग्रन्थ कौन सा है?

    ऋग्वेद 

  5. ऋग्वेद में कितने सूक्त हैं?

    1028

  6. ऋग्वेद के समस्त सूक्त कितने मंडलों में विभक्त हैं?

    10 मंडलों में

  7. आर्यों द्वारा वेदों को क्या कहा गया है?

    अपौरुषेय 

  8. भारत नाम का उल्लेख पहली बार कहाँ से आया है?

    ऋग्वेद से 

  9. ऋग्वेद का प्रमुख देवता कौन सा है?

    इंद्र 

  10. ऋग्वेद में चिकित्सक अथवा वैद्य को क्या कहा जाता था?

    मिषक

  11. ऋग्वेदिक काल में तांबे के लिए कौन सा शब्द प्रयुक्त होता था?

    अयस

  12. ऋग्वैदिक आर्यों की प्रमुख नदी कौन सी है?

    सिंधु नदी 

  13.  वेदों की रचना किस भाषा में की गयी है?

    संस्कृत में 

  14. सबसे प्राचीन वेद कौन सा है?

    ऋग्वेद 

  15. ऋग्वेद के किस मंडल में गायत्री मन्त्र का उल्लेख है?

    तीसरे मंडल में 

  16. ऋग्वैदिक काल में मुद्रा के लिए कौन सा शब्द प्रयोग किया जाता था?

    वृषभ 

  17. गायत्री मन्त्र में किस देवता की प्रार्थना की गयी है?

    सवितृ (सूर्य) की 

  18. उपनिषदों की संख्या कितनी है?

    108

  19. पुराणों की संख्या कितनी है?

    18

  20. ऋग्वैदिककाल में समाज का स्वरूप किस प्रकार का था?

    पितृसत्तात्मक 

  21. ऋग्वैदिक आर्यों की भाषा क्या थी?

    संस्कृत 

  22. ऋग्वैदिककाल की सर्वाधिक प्राचीन संस्था कौन सी थी?

    विद्थ

  23. ऋग्वैदिकाल में विनियम के माध्यम के रूप में किसका प्रयोग किया जाता था?

    गाय

  24. भारत का राष्ट्रीय आदर्श वाक्य “सत्यमेव जयते” कहाँ से उद्धृत है?

    मुंडकोपनिषद 

  25. वेदांत किसे कहा गया है?

    उपनिषदों से 

  26. वैदिककाल में जान शब्द का क्या अर्थ है?

    जनजाति

  27. ऋग्वैदिक सभ्यता का मुख्य केंद्र बिंदु कहाँ था?

    पंजाब  और दिल्ली क्षेत्र

8 thoughts to “Indian History GK in Hindi – भारतीय इतिहास सामान्य ज्ञान”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *